गावस्कर, सचिन और कोहली की लीग से बहुत दूर है शुभमन गिल, और जल्दबाज़ी में मिला ‘प्रिंस’ टैग

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़ ये बात सामने आ रही है की शुभमन गिल का प्रिंस टैग का क्या हुआ, लोग इस बात पर सवाल खड़े कर रहे है. बात तो वैसे निराशा की ही है क्यूंकि शुभमन गिल का इस वक़्त अच्छे आसार नहीं चल रहे है। क्यूंकि ये देखा गया है की गिल इंग्लैंड के खिलाफ हो रहे मैच की पहली पारी में ही गेम से आउट हो गए जिसके कारण दर्शको ने उनके प्रिंस टैग होने पर उँगलियाँ उठायी है.

ये तो सभी क्रिकेट के फैंस जानते होंगे की क्रिकेट की शुरू से एक ही रचना होती चली आ रही है की क्रिकेट में राज करने वाला एक खिलाडी हमेशा भारत टीम का ही होता है. आइये आपको बताते है की 80 के दशक में सुनील गावस्कर थे, फिर 90 दशक के बाद से सचिन तेंदुलकर रहे और अब तो विराट कोहली ही छाए रहते है. और इसी कार्यकर्म को बनाये रखने की कोशिश में एक खिलाड़ी फास कर रह गया है। ये खिलाड़ी शुभमन गिल है। अभी उनके करियर को सही से ज़्यादा वक़्त भी नहीं हुआ था लेकिन उनके नाम पर बहुत से टैग लग गए जैसे की उनका सबसे बड़ा टैग प्रिंस का है. यह टैग उनके नाम के साथ इसलिए जुड़ा क्यूंकि विराट कोहली को किंग कहा जाता है.

लगता है अभी उस लीग के लायक नहीं गिल

अब बात करते है शुभमन गिल की जिनका २०२३ का साल उनकी ज़िंदगी में किसी ख्वाब की तरह ही था क्यूंकि उसमे उन्होंने बहुत कुछ हासिल किया। उन्होंने 2023 में 2000 से भी ज़्यादा इंटरनेशनल रन बनाये , वनडे में डबल सेंचुरी और आईपीएल में सबसे ज़्यादा रन और रैंकिंग में वर्ल्ड के नंबर वन बल्लेबाज़ रहे. लेकिन साल ख़तम होते ही जैसे शुभमन गिल का ख़राब वक़्त शुरू हो गया उनके क्रिकेट के करियर में. उनकी तेरह पारियां लग गयी लेकिन बेचारे कभी 50 तक भी न पहुंच सके.

उनके क्रिकेट के फैंस को लगता था की गिल उन्हें निराश नहीं करेंगे क्यूंकि परफॉरमेंस की वजह से ही उन्हें प्रिंस का टैग मिला था और लोगो ने उन्हें एक बहुत अच्छा खिलाड़ी माना था। शायद लगता है उनको नज़र लग गयी क्यूंकि अब वो उस फॉर्म में आ ही नहीं प् रहे है. इस सीरीज के तीसरे टेस्ट में गिल 9 बॉल्स कराई और एक बार भी खाता नहीं खुल पाया। अब चिंता की तो बात है ही, लोगो को लगता था की वो बहुत ाचा प्रदर्शन देंगे पर ऐसा हो न सका. सोच कुछ और हुआ कुछ और ही. कमेंटरी बॉक्स से ये सुनने में आया की उनके हार्ड हैंड्स के कारण उनपर ये परेशानी आयी है.

Shubhman Gill

क्या जल्दबाज़ी में बना दिया जाता है स्टार

दर्शको का यह कहना है की अब ये साल गिल के लिए अच्छा साबित होता नज़र नहीं आ रहा है, वैसे तो कुछ नहीं कह सकते क्यूंकि ये तो शुरुआत है. लेकिन पिछले साल उन्होंने ढेरो शतक लगाए थे और काफी रन बनाये और उन्हें वर्ल्ड के नंबर वन का खिताब भी हासिल हुआ था। लेकिन ये बात गलत साबित हो गयी की वो गावस्कर, सचिन और विराट की लीग में आ सकते है। ये बात सच है कि किसी भी खिलाड़ी का एक ही साल ये फैसला नहीं कर सकता की उनका करियर कहाँ तक चलने वाला है और ये सब तो नसीब की बात भी होती है. अगर विराट कोहली की बात करें तो 2020 से लेकर 2022 उनके लिए थोड़ा मुश्किल रहा लेकिन ऐसे में उनका करियर ख़राब नहीं हुआ।

Leave a Reply